लिफ्ट देने के बहाने आंटी को चोदा

2
14447

बात अभी दो दिन पहले की ही है. गुजरात में सब जगह जोर से बारिश हो रही है. वैसे बरोडा में भी कुछ ज्यादा ही है इस बार. तो जैसे मैंने आपको पहले बताया हुआ है, कि मैंने किस तरह से रेशमा नाम की लड़की की चुदाई की हुई है और अब उस बात को भी १ साल के ऊपर होने को था. किस तरीके से मैंने उसको मानसून के मौसम में लिफ्ट देकर उसकी चुदाई की थी और फिर से उसको नवरात्री में चोदा था. उसके बाद से तो मुझे मौका ही नहीं मिला. लेकिन मैंने इस दौरान बहुत सी औरतो को चोदा. तो दोस्तों, बारिश गिर रही थी और सेम टाइम मैं इवनिंग में कंपनी में से छुटने के बाद घर की ओर जा रहा था. कि रास्ते में मुझे मेरी जानेमन रेशमा दिखी. वो शायद ऑटो का इंतज़ार कर रही थी. मैं तो एकदम से खुश ही हो गया था. क्योंकि हमारे बीच में डील थी, कि अकेले अचानक से मिल गए तो ठीक है. वरना कोई किसी से कांटेक्ट नहीं रखेगा. मैंने भी बाइक एकदम से उसके पास जाकर खड़ी कर दी.

वो मुझे देख कर बोली – व्हाट ए सरप्राइज? और मुस्कुराते हुए मेरी बाइक के पीछे बैठ गयी. वहां स्टैंड पर ३ – ४ और भी लोग थे और जो मुझे उसका हस्बैंड समझे होंगे शायद. फिर मैं बाइक चलाने लगा. हम दोनों तेज बारिश में पुरे भीग गये थे. मैं बोला – आज भी पेपर चेक करने में देरी हो गयी? वो बोली – नहीं, अभी स्कूल में थोड़ा काम था. इसलिए.. हम लोग इतने भीग चुके थे, कि अब हमको ठंडी लगने लगी. वो मुझसे चिपक गयी और मैं भी बार – बार ब्रेक लगाने लगा और वो बोली – अब बस भी करो. अब इतने भी बूब्स अपनी पीठ से मत दबाओ. घर चलो.. हाथ से और मुह से जितना चाहो.. उतने दबा लेना. मैंने कहा – क्या? तुम्हारे हस्बैंड घर पर नहीं है क्या? रेशमा बोली – नहीं. वो ५ दिन से एपी के टूर पर गये हुए है. मैंने बोला – ५ दिन और तुम मुझे अब बता रही हो? वो बोली – हमारे बीच डील थी. इसलिए रोज़ गॉड से परे करती थी, कि मुझे तुम जल्दी मिल जाओ.. और फाइनली आज तुम मुझे मिल गये. घर चलो आज तुम. खा जाउंगी मैं तुम्हे आज…

मैंने बाइक की रफ़्तार तेज कर दी और १५ मिनट में हम उसके फ्लैट पर पहुच गए थे. हम दोनों लिफ्ट में घुसे और जेसे ही डोर बंद हुआ, मैंने उसको कस कर पकड़ लिया और उसको किसिंग करने लगा. उसकी साड़ी के ऊपर से मैं उसके बूब्स को मसल रहा था और वो भी मेरा साथ दे रही थी. इतने में उसका फ्लोर आ गया. बारिश की वजह से कोई बाहर नहीं था. उसने फटाफट डोर खोला और हम अन्दर चले गये. उसके डोर बंद करने से पहले ही मैंने उसे अपनी बाहों में ले लिया और फुल मस्ती में किसिंग करने लगा. उसने हम दोनों की किस्सिंग करते – करते ही डोर को बंद किया. मैंने उसको अपनी गोदी में उठाया और उसको सोफे पर ले गया और उसको चूसने लगा. मैं उसके जूसी लिप्स छोड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था. जितना मैं उसको जोर से किस कर रहा था और जोरो से मुझे किस्सिंग कर रही थी. मैंने उसकी साड़ी का पल्लू गिरा दिया. ऊऊ… मैंने आपको उसकी ड्रेसिंग तो बताना ही भूल गया… अहहाह.

उसने येलो कलर की साड़ी, स्लीवलेस ब्लाउज.. जिसमे से उसके बड़े बूब्स की क्लेवेज अवेसोम दिखती है. वो पहना था. उसका फिगर अब तो बढ़ गया था. मैंने उसकी चिक लिप सब जगह अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिया और वो पूरी तरह से मदहोश हो गयी और मेरे कपड़े उतारने लगी. हम दोनों के लिप्स अलग होने का नाम ही नहीं ले रहे थे. मैंने किसिंग में ही उसके टाइट ब्लाउज में हाथ डाल दिए और ब्रा के ऊपर से बूब्स को मसलने लगा. वो धीरे – धीरे सोफे पर लेटने लगी और मैं उसके लिप को छोड़ना नहीं चाहता था. तो मैं भी उसके ऊपर आ गया. मेरा हाथ ब्लाउज में जोरो से उसके युम्म्म्मीईईईइ बूब्सस्सस्सस्सस मसल रहा था. उसने मेरे शर्ट के बटन को तोड़ दिया और मेरे गले चेस्ट, सब जगह पर पागलो की तरह किस करने लगी थी. मैं भी जोश में आ गया और उसके ब्लाउज को फाड़ दिया और उसके ब्लाउज के सारे बटन टूट गये.

उसने अन्दर ब्रा भी येल्लो ही पहनी हुई थी. उसके अन्दर उसके गोरे – गोरे दूध जेसे वाइट बूब्स देख कर ही, कितनो का पानी निकल जाता है. वो मेरे शर्ट के अन्दर घुसे जा रही थी. और फिर अपनी जीभ को हर जगह फिराने लगी. मैंने उसकी पूरी साड़ी निकाल दी और ब्लाउज को भी निकाल दिया. अब वो ब्रा और पेटीकोट में आ अ गयी थी. फिर वो धीरे – धीरे किस्सिंग करते हुए ऊपर आ गयी और मेरे लिप्स को चूसने लगी थी. आज तो उसका दवाब ज्यादा था मेरे से. फिर मैंने उसकी ब्रा में मुह डाल दिया और उसके बूब्स चाटने लगा. वो बोल रही थी आममम अममम अममामा अममम ह्म्म्मम्म अममम्मा चुसो… चुसो… अममम अममम अममम हममम उम्म्मम्म्म्म.. प्लीज काटो ना… प्लीज करो ना… प्लीज और जोर से और जोर से … हाहाह अहहाह अहहाह अहः ममममम उम्म्म्म ह्म्म्मम्म… चुसो ना…

मैंने उसकी ब्रा निकाल कर फेंक दी और दोनों हाथो से उसके बिग बिग बूब्स…. मैं अपने हाथ में दबा कर चूसने लगा. मैंने उसके बूब्स को इतने जोरो से दबा रहा था, कि उसके मुह से अहः अहहाह अहहाह अहहः आऊवूऊ औच औच औच औक औच एच औच औच औच चीखने की आवाज़े निकल रही थी. मैंने इसी दौरान उसका पेटीकोट और पेंटी दोनों को निकाल दिया और वो अब पूरी नंगी हो गयी थी. मेरे सामने कोई परी के माफिक एक हसीं जलवा बिखेरने वाली औरत खड़ी थी, जिसकी कमसिन जवानी से मैं खेलने वाला था. मैं एकदम से उस पर टूट पड़ा और उसके फिर से सब जगह पर किसिंग करने लगा. वो बार – बार मेरा मुह पकड़ लेती और लिप किसिंग करने लगती. अब उसने मेरा पेंट और अंडरवियर निकाल दिया और वो बोली – ओये.. होए… मेरा छोटा राजा.. ये तो अब और भी ज्यादा मस्त हो गया है.. मैंने बोला – मेरी रानी.. तेरे बाद वो और बहुत सी सारी चूत के स्वाद को चख चूका है. वो बोली – अरे वहाह्ह्ह्ह… तब तो आज जितनी को जिस जिस पोजीशन में चोदा है.. मुझे उस – उस पोजीशन में चोद मेरे राजा… मैंने भी कहा दिया – ओके मेरी डार्लिंग.

फिर मैंने उसको बेडरूम में ले जाकर बेड पर लेटा दिया और मैं उसके साइड में आ गया. हम किसिंग करने लगे थे और मैं उसके बूब्स को दबा रहा था. फिर धीरे – धीरे से चूत पर हाथ ले गया. तो ऑब्वियस थी, कि हर बार की तरह ही बहुत ज्यादा चिकनी हो चुकी थी. उसका २ बार पानी निकल चूका था और अब मैं उसकी चूत के दाने को रब करने लगा. वो मचल उठी और बोलने लगी… प्लीज चोदो ना… मुझे… अब चोद भी डालो… और मत तड़पाओ… कितने महीनो से मैं प्यासी हु… मेरे पति टूर पर जाकर बाहर मौज कर लेते है और इधर मैं प्यासी ही रह जाती हु. मैंने बोला – मैं हु ना मेरी जान.. तेरे लिए… और ऐसा कहा कर, मैंने उसके पैरो को ऊपर कर दिया और अपने लंड को उसकी चूत पर रख कर अपने लंड को उसकी चूत पर रगड़ने लगा. वो मुझ से एकदम चिपक गयी थी और मुझे किसिंग कर रही थी. मैंने उसकी चूत में एक झटका लगा कर अपने लंड डाल दिया और वो एकदम से सिहर गयी. वो चिल्ला भी नहीं सकती थी. क्योंकि उसका मुह अपने अपने होठो में लेकर एकदम टाइट बंद कर रखा था. अब मैंने उसको कस कर पकड़ लिया और अपनी गांड को बहुत तेजी से हिलाने लगा. मैंने रफ़्तार बहुत ही ज्यादा तेज थी और मैंने उसको बहुत ही जोरो से चोदना शुरू कर दिया.. वो भी अपनी गांड को हिला कर मुझ से चुदवा रही थी.

मैं साथ ही उसके बूब्स मसलने लगा. वो तो पूरी तरह से पागल हो गयी थी चुदाई में. मुझे लगने लगा था, कि वो बेहोश हो गयी है. करीब १५ मिनट मैंने उसको उस पोजीशन में चोदा और फिर मैं उसके बूब्स के ऊपर आ गया और उसके बूब्स पर बैठ गया और फिर मैंने अपना लंड उसके मुह में घुसा दिया. वो हिला – हिलाकर उसको चाटने लगी और बोली – उस बार की तरह ही मुझे चॉकलेट लगा कर चाटना है मुझे. मैंने बोला – ठीक है. रात को चॉकलेट लेते आऊंगा, मेरी डार्लिंग के लिए. वो और भी जोरो से चूसने लगी. फिर मैंने उसे डोगी स्टाइल में ले लिया और उसकी गांड में लंड डाल दिया. अब उसकी गांड मेरे लंड को आसानी से नहीं ले रही थी. क्योंकि उसकी गांड फर्स्ट टाइम मैंने ही मारी थी और उसका बहुत टाइम हो गया था. सो मैंने आयल मंगवाया और उसकी गांड की थोड़ी सी मालिश कर दी और फिर उसने मेरे लंड पर आयल लगाया और फिर वो डोगी हो कर मुझे बुलाने लगी और बोली – आओ मेरे राजा.. अपनी रानी की गांड का भुरता बना कर फाड़ दो… डालो ना. अपने लंड को अब मेरी गांड में… छोड़ना मत… बिलकुल भी… रगड़ डालो ढंग से…

मैंने उसकी गांड में लंड घुसा दिया और वो चिल्ला कर बोल रही थी… रुकना मत. मेरे राजा.. फाड़ दो उसको आज.. मैं उस से चिपक कर उसके बूब्स को मसलते हुए.. कंधो पर किसिंग करते हुए गांड मार रहा था. करीब २० मिनट बाद, मेरा छुटने वाला था. तो मैंने उसे पूछा वो बोली – अभी मेरी सुखी गांड को हरा कर दो.. रात में चूत को पानी पिलाना है. मैं तेज झटके मारने लगा. करीब १५ – २० धक्को के बाद, मेरा बहुत सारा क्रीम उसकी गांड में छोड़ दिया. उसकी गांड से सब बाहर आने लगा. वो बेड पर हाँफते हुए गिर गयी और मुझे पूरा अपने ऊपर खीच लिया और रोमांस करने लगी. उसके बाद हम २० मिनट एकदूसरे के बाहों में लेटे रहे और फिर वो बोली – तुम फ्रेश हो जाओ और घर जाना हो. तो जाकर आओ. मैंने तुम्हारे लिए खाना बनाकर रखती हु.

लेकिन जल्दी आना मेरे राजा.. मैंने उसको किस किया और जाने के लिए रेडी हुआ. तो याद आया, कि मेरी शर्ट के सारे बटन तो टूटे हुए थे. फिर उसने मुझे एक शर्ट निकाल कर दी पहनने को. फिर मैं घर आया और रात को ९:३० बजे उसके घर चॉकलेट और कंडोम का पैकेट लेकर पहुच गया. जब उसने रात को डोर खोला, तो उसने सिल्की ब्लैक कलर की नाइटी पहनी हुई थी. उसको देख कर पता चल रहा था, कि उसने अन्दर कुछ भी नहीं पहना हुआ था. फिर अन्दर जाकर हमने किसिंग की और डिनर किया.

हमने एक दुसरे को भी खाना खिलाया. फिर पूरी रात हमने खूब एन्जॉय किया और ४ बार और सेक्स किया साथ में. बाद में हम लोग साथ में नहाये भी. सेक्स के बाद हम दोनों बहुत थक गये थे और फिर हम साथ में नंगे ही एक दुसरे की बाहों में सो गये. फिर में सुबह उधर से ही फ्रेश ही कर कंपनी चला गया और उसने बोला – अभी दिन और है. रात में मेरे हस्बैंड बन कर आना मेरे राजा… फिर मैं निकल गया. फिर जब तक उसका पति नहीं आया. मैं उसके घर में उसका पति बन कर रहा और खूब मज़ा किया.



2 COMMENTS