Madam ki maalish

0
16355
madam ki chudai, madam ke sath sex, student teacher sex story

मैं रिचर्ड कद 5 फ़ुट 11 इंच, उम्र 22 साल ! यही सोचता था कि कब मैं इसमें अपनी कहानी लिख सकूँगा। आखिर मेरी भी किस्मत चमक ही गई।

मैंने अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी कर ली थी और जॉब के लिए इधर उधर भटकता रहता था। अभी हाल ही में गेट का कट ऑफ भी कलीयर नहीं कर पाया था, काफी परेशान था। घर में बेरोजगार बैठना ज़हर पीने जैसा होता है, ज़माने के ताने सुनो और घर के लोगों के भी !

लेकिन इस बार शायद किस्मत सही थी, मैं अपनी पुरानी अध्यापिका रश्मि के घर गया और उनसे राय मांगी। रश्मि की उम्र 31 साल, कद 5 फ़ुट 6 इंच के करीब.. काफी बड़े चूचे और काले सलवार कमीज़ में कमाल लग रही थी। मैं उन्हें अपने स्कूल टाइम से ही

sil tod chudai

पसंद करता था, जब उनके यहाँ कोचिंग जाता था, तभी से उन्हें अपना बना लेने की ख्वाहिश थी.. उनकी अभी तक शादी नही हुई थी।

मैंने उनसे उनके काम के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा- सब सही चल रहा है। गर्मी का मौसम था तो उन्होंने मुझे जूस के लिए पूछा। मैंने हाँ कह दिया, वो जब उठी तो मैं उनके उभार देख कर पगला गया ! उन्होंने अंदर कुछ नहीं पहना था..मैं उनके पीछे गया और पूछा- बाथरूम कहाँ है?

इसी बहाने अपने आप को संभाला और फ़िर बाहर आकर उनके साथ जूस पिया.. उन्होंने पूछा- अब क्या करोगे? मैंने कहा- देखिये मैडम, अभी तो यहीं कुछ भी जेब खर्चे के लिए करना है, उसके बाद तो मास्टर डिग्री करनी ही है..
उन्होंने कहा- ठीक है.. तो यहाँ क्या करोगे? वो बातें कर रही थी और मैं कमीना उनके वक्ष पर नज़र गड़ाए बैठा था ! मैंने कहा- बस किसी कॉलेज मैं कुछ लेक्चरर बनने की सोच रहा हूँ.. उन्हें शायद पता चल गया था कि मेरा ध्यान कहाँ है.. उन्होंने मुझसे मेरे बारे में और जानना चाहा.. मैं भी कमीना था ही, मैं उन्हें ओशो वगैरा का ज्ञान देने लगा.. और अचानक से उनके कपड़ों की तारीफ कर दी.. वो मुस्करा दी और उन्होंने मेरे कपड़ों को भी शानदार कहा।

मैंने कहा- कहाँ मैडम ! मैं तो गरीब हूँ.. इतने ही अच्छे होते तो मेरी भी आज गर्लफ्रेंड होती.. आज तक किसी लड़की को छुआ भी नहीं है.. मैडम ने मुस्करा कर कहा- चल ! झूठ बोल रहा है.. मैंने कहा- नहीं मैडम.. सच कह रहा हूँ !

उन्होंने सहानभूति के साथ देखा और मेरे कंधे पर हाथ रख कर पूछा- ऐसा क्यूँ..? अब उनके चुच्चे और साफ़ दिखाई दे रहे थे, मेरा लंड भी काबू में नहीं आ रहा था ! मैंने कह दिया- मैडम सॉरी ! बुरा नहीं मानियेगा, मैं जबसे आपकी कोचिंग में आ रहा था तब से सिर्फ आप ही के बारे में सोचता था.. ना जाने क्यूँ पर आपको जान कर शायद हैरानी होगी कि आपके बारे में सोच कर ना जाने कैसे कैसे अपने आपको शांत करता हूँ। उन्होंने ठहाका मारते हुए कहा- तुम मजाक भी तक करते हो रिचर्ड..

और वो ‘कुछ खाने के लिए लाती हूँ।’ कह कर चली गई.. मैंने सोचा भी कि यह मैं क्या कर रहा हूँ, मैडम है मेरी, ऐसा नहीं करना चाहिए मुझे। वो जब आई तब उनके बाल खुले थे और मुझे कहा- अभी काम बढ़ जाने के कारण काफी थकान हो जाती है रिचर्ड.. मुझे लगा कि चलो उन्हें मेरी बात बुरी नहीं लगी। उन्होंने कहा- ज़रा यह तेल मेरे सर पर लगा दोगे? अगर तुम्हें ठीक लगे तो !
मैंने हाँ में सर हिलाते हुए बोतल उठाई और चालू हो गया… अब मैं उनके बूब्स आसानी से देख रहा था। उन्होंने कहा- वाह रिचर्ड, तुम्हारे हाथ में तो जादू है..मैंने मुस्कुराते हुए कहा- नहीं मैडम, बस इन्टरनेट पर देखा था कि कैसे मालिश करते हैं.. उन्होंने कहा- अच्छा, तो तुम्हें मालिश करनी आती है.. तो ज़रा गर्दन पर भी तेल लगा देना.. मैंने मौका पकड़ लिया था मुझे समझ में आ गया था की रश्मि मैडम को कोई ऐतराज़ नहीं होगा.. तो धीरे धीरे उनकी गर्दन से कंधे तक आ गया..

अब मेरा हाथ उनके कंधे पर चल रहा था और वो अपनी आँखें बंद करके मालिश का मज़ा ले रही थी.. उन्होंने पूछा- रिचर्ड, क्या तुमने सही में आज तक किसी लड़की को नही छुआ? मैंने कहा- नहीं मैडम, कल तक ! और वो मुस्कुराने लगी..
बस फिर क्या था, मैं हिम्मत करके अपने हाथ उनके बूब्स के पास ले जाने लगा। उन्होंने कुछ नहीं कहा तो मैंने धीरे से अपने दोनों हाथों से उनके उरोज पकड़ लिए। अब वो आहें भरने लगी थी.. उन्होंने मुझे अचानक से रोकते हुए कहा- यह सही नहीं है रिचर्ड !

मैंने कहा- सॉरी मैडम ! उन्होंने कहा- यह तुमने बिल्कुल ठीक नहीं किया है.. अगर किसी को पता चला तो.. और तुम तो मेरे स्टुडेंट हो ! मैंने कहा- मैडम, मैं स्टुडेंट था, अब नहीं हूँ, और किसी को पता कैसे चलेगा जब हम और आप बताएँगे नहीं तो? मैं किसी को बता कर अपने पैर पर कुल्हाड़ी थोड़ी न मारूँगा..
इतने ममें ही उन्होंने अपना आपा खो दिया और मुझे बेतहाशा चूमने लगी, मुझे लगा कि मैं सपना देख रहा हूँ..इससे पहले मैं कुछ करता, उन्होंने अपने सारे कपड़े उतार कर फेंक दिए और मेरे भी उतार दिए… मेरा लंड देख कर उन्होंने कहा- आज सालों बाद मेरी प्यास बुझेगी रिचर्ड.. मैंने कहा- मैडम.. ! उन्होंने बीच में रोकते हुए कहा- मैडम नहींज मेरी जान, रश्मि कहो और तुम्हें अपना पहला सेक्स मेरे साथ ही करना है..

यह कह कर उन्होंने मेरा लंड मुँह में ले लिया.. मैं हाँ कहने के अलावा और कहता क्या ! वैसे भी आज तो सपने पूरे हो रहे थे… तभी मैंने उनके बाल जोर से पकड़े और उन्हें अपनी तरफ खींचा उनको चूमते हुए उनके चूचे दबाये…फिर उनके जब मैंने निप्पल चूसे तो वो आह आह के अलावा कुछ नही बोल रही थी। उन्होंने मेरा सर अपनी गीली चूत की तरफ़ धकेला, मैंने अपनी जीभ से उसे चाटना चालू किया… उनकी चूत गीली थी.. मैंने जैसे ही अपनी जीभ उनकी चूत में डाली उनकी फ़िर आह निकल पड़ी.. उन्होंने मुझसे कहा- रिचर्ड बस कर ! जान लेगा क्या? अब नहीं रहा जा रहा है ! मेरी चूत तेरे लंड की प्यासी है, प्लीज़ डाल ना ! जान लेगा क्या अपनी रश्मि की ..

मैंने अपना लंड उनकी चूत पर रखा और करीब बी मिनट तक उनको छोड़ने के बाद मैं झड़ गया.. करीब आधे घंटे बाद हमने फिर सेक्स किया… उसके बाद मैं रोज़ ही अपनी रश्मि मैडम को चोदने लगा… मुझे नहीं पता कहानी लिखी कैसे जाती है, आपके सुझाव और सलाह आमंत्रित है, यह मेरी पहली कहानी है और आगे से इससे और बेहतर लिखने की कोशिश करूँगा.. धन्यवाद