अप्सरा से बदन को चोदा – hindi sex story

2
14001

सभी पाठकों को प्रणाम.. मैं अतिरेक सेन.. मेरी उम्र 28 साल है.. मैं शादी-शुदा हूँ और मेरे 2 बच्चे भी हैं, अपनी ज़िंदगी की वास्ताविक कहानी ले कर आया हूँ। इस सत्य घटना पर आधारित कहानी में सभी पात्रों के नाम गोपनीयता हेतु बदले हुए हैं।

कहानी शुरू होती है.. 4 साल पीछे से.. यानि तब मेरी उम्र 24 साल थी। मैं एक प्राइवेट जॉब में था।
मैं अपने घर में सबसे छोटा हूँ.. मुझसे बड़े 2 भाई और 1 बहन है।
मेरे दूसरे नंबर वाले भाई की शादी हो चुकी थी.. घर में नई भाभी आई थीं।

सारे रिश्तेदार भैया की शादी के बाद अब मेरी शादी की बातें करने लगे थे। लेकिन मैं अभी शादी नहीं करना चाहता था।
भाभी का पग-फेरा होना था.. उनका कोई भाई नहीं है.. तो मुझे ही कह दिया गया था कि जब उनके पापा फोन करें..

तो उनको उनके मायके के घर छोड़ आना।

मैंने उनको उनके घर छोड़ा.. लेकिन वापिस आते-आते थोड़ी रात हो गई थी और काफ़ी बारिश होने लगी थी।
ना जाने क्यूँ.. मुझे ऐसा लग रहा था.. कि कोई मेरी बाइक का पीछा कर रहा था।
उस गाड़ी की रफ्तार मेरी बाइक से कम थी.. वो चाहता तो आगे निकल सकता था.. रास्ता भी सुनसान था और बारिश भी हो रही थी। खैर.. मैंने ज़्यादा ध्यान नहीं दिया.. करीब 2-3 किलोमीटर चलने के बाद सिटी बस स्टॉप दिखाई दिया।
बारिश अब भी तेज़ थी और मैं भी थका हुआ था.. तो मैं वहीं रुक गया।
मैं पूरा भीगा हुआ था.. मैंने नीले रंग की नैरो-फिट जीन्स और एक काली हाफ टी-शर्ट पहन रखी थी.. जो बारिश के कारण मेरे पूरे बदन से चिपकी हुई थी।
Indian Sex उन्नत वक्ष.. भरे हुए नितंब और सुडौल शरीर.. पूर्ण यौवन..

अभी मुझे रुके हुए एक मिनट भी नहीं हुआ था कि कोई लड़की भागती सी आई और एकदम मेरे ऊपर गिर सी गई।

मैं हड़बड़ा सा गया।

वो गहरे नीले रंग की साड़ी में थी उसके खुले बाल भीग चुके थे। वो मुझसे कुछ इस तरह से टकराई कि उसके नितम्ब सीधे मेरे लंड से जा टकराए और मेरा हाल थोड़ा बुरा सा हो गया। चूत चुदाई के मामले में मैं कुँवारा तो नहीं था.. इसलिए कुछ ज़्यादा ही भड़कने लगा था।

उसने खुद को संभाला और ‘सॉरी’ कहने लगी.. इसी बीच वो गाड़ी मेरे सामने से गुज़र गई.. जो मेरे पीछे-पीछे आ रही थी। लेकिन उसकी हेड लाइट्स सीधा मेरे या कहो कि हम दोनों के चेहरे पर थी। मुझे कुछ अजीब सा लगा.. लेकिन वो बाइक आगे निकल गई।

अब वो लड़की बोली- छोड़िए प्लीज़!
मुझे ध्यान ही नहीं रहा कि कब मेरा एक हाथ उसकी कमर के चारों ओर पहुँच कर लिपट चुका था और दूसरा हाथ उसकी पीठ पर था।
शायद मैंने उसकी पकड़ने की कोशिश की थी.. जब वो गिर रही थी, लेकिन उसके मादक एहसास के चलते खुद को उससे अलग करना ही भूल गया था।

मैंने उसको छोड़ दिया.. उससे बातचीत में मालूम हुआ कि उसका नाम अनामिका रॉय था और वो किसी पार्टी से लौट रही थी.. रात में ऑटो वाले से किसी ग़लत मोड़ पर रुकवा लिया था और रास्ता भूल कर यहाँ आ गई थी।
वो एक स्टूडेंट थी और फ्रेंड्स के साथ फ्लैट ले कर रहती थी।

मैंने उसका पता पूछा और उसको छोड़ने की पेशकश की.. जिसे उसने हंसते हुए स्वीकार कर लिया। मैं पूरी तरह से वासना के अधीन हो चुका था.. उसके उन्नत वक्ष.. भरे हुए नितंब और सुडौल शरीर.. पूर्ण यौवन.. जिसका हर अंग मदन-राग गा रहा था।

उसके ऊपर से बारिश.. मेरा मन हुआ कि अभी इसको मैं विक्टोरिया मेमोरियल हॉल ले चलूँ.. कम से कम कुछ तो शांति मिलेगी ही.. लेकिन थोड़ा सा डर भी था.. अंजान लड़की ही तो है.. कहीं कुछ लोचा न हो जाए।
खैर.. मैं उसके बताए हुए पते की तरफ चल पड़ा।
मुझे महसूस हुआ.. कि वो गाड़ी फिर से मेरे पीछे आने लगी है।

पर इस वक्त मेरा दिमाग़ तो पूरी तरह से अनामिका के उठे हुए मम्मों की नोकों पर था.. जो हर बार मेरी मांसल पीठ से रगड़ खा रहे थे.. और रगड़ने से और नुकीले व कठोर होते जा रहे थे।

मेरा लण्ड अपने पूर्ण स्वरूप में आ चुका था.. इसको मात्र अवलोकन ही समझा जा सकता था कि मेरे कपड़ों की दीवार अब बेमानी सी हो रही है.. मेरा मदन अंग अब अभिसार-रास की कामना में था।

उसने बताया कि वो अपनी एक दोस्त के साथ रहती है।

मैंने पूछा- आपका कोई ब्वॉय-फ्रेण्ड नहीं है?
वो हंसते हुए बोली- क्यूँ.. ब्वॉय-फ्रेण्ड होना ज़रूरी है.. कोलकाता में रहने की कोई ख़ास कंडीशन है.. ब्वॉय-फ्रेण्ड?
मैंने भी हँसते हुए कहा- नहीं.. नहीं.. लेकिन पर्सनल ज़रूरतों के लिए कभी-कभी ब्वॉय-फ्रेण्ड का होना ज़रूरी होता है।
‘पर्सनल जरूरत.. हा हा हा..’
वो यह शब्द दोहरा कर हंस दी.. उसकी हंसी बहुत ही मादक थी.. जो मेरी उत्तेजना को और बढ़ा देती थी।

मैंने महसूस किया कि उसका हाथ कभी मेरी भरी हुई टाँगों को नाप रहा था.. तो कभी मेरी पीठ को सहला सा रहा था। मैं समझ गया कि आज यह भी यौवन की अग्नि में डूब चुकी है।
मैंने तय किया कि इसको आज अपना कामरस पिला कर ही जाऊँगा।

उसके फ्लैट पर पहुँच कर मैंने एक तेज ब्रेक मारा.. ताकि वो पूर्ण स्पर्श महसूस कर सकूं.. जिसने रास्ते भर मेरा ध्यान भंग किया था।

मैंने ब्रेक मारा तो उसकी भी जैसे तंद्रा भंग हुई और उसने अपने हाथों को काबू में कर लिया।
मैं बाइक से नीचे उतरा..

मेरी जीन्स के ऊपर से ही मेरे मदनअंग का पूरा अंदाज़ा वो भी लगा चुकी थी।
वैसे भी मेरा लण्ड पूरे परवाज़ पर था.. अनामिका मुझे ऊपर से नीचे तक देख रही थी और अपने दोनों पैरों को मिलाने की कोशिश में थी.. जैसे कि टाँगों के बीच में कुछ छुपा रही हो।

वो बोली- अन्दर आइए ना.. आप पूरी तरह भीग चुके हैं.. आपको ठंड लग सकती है.. मैं कुछ कॉफी या चाय बना देती हूँ.. थोड़ी गर्मी आ जाएगी।
अब मैं उसको कैसे समझाता कि गर्मी तो बहुत है मेरे अन्दर.. बस उसको निकालने की लिए तुम्हारी ‘हां’ की ज़रूरत है।

तभी उसने मेरा हाथ पकड़ा और बोली- सोचते ही रहोगे कि अन्दर भी चलोगे..
लेकिन मेरी आँखें फिर चुंधिया गईं.. ये वही गाड़ी थी.. जो तीसरी बार मेरी आँखों पर हेड लाइट मार कर निकली थी।

मैंने पलट कर उसको देखा.. लेकिन अनामिका मेरा हाथ सहलाने लगी थी.. तो कुछ नहीं सूझा.. मैं बस एक काम-आतुर की तरह उसके सम्मोहन में गिरफ्तार हुआ उस कामिनी के पीछे चल पड़ा।

हम लोग अन्दर गए तो मालूम हुआ कि उसकी दोस्त एक नोट छोड़ गई थी कि वो अपने रिश्तेदार के घर जा रही है और रात को वहीं रुकेगी।

मेरी खुशी का ठिकाना ही नहीं रहा.. मैंने देर ना करते हुए खुद पहल करने की सोची और उससे बोला- एक तौलिया ला दो।

वो जैसे ही मुड़ी मैंने उसकी साड़ी का सिरा पकड़ लिया.. वो मेरी तरफ पलटी तो मैंने एक कातिलाना मुस्कान दी.. जिसका जवाब मुझे उसकी कातिलाना मुस्कान से मिला और वो अपने होंठों को दबाने लगी।

मैं समझ गया कि साली रंडी है।

उसकी साड़ी का सिरा धीरे-धीरे खींचते हुए मैंने उसका चीर-हरण शुरू कर दिया.. लेकिन मेरी इस छमिया का मैं ही रस-चूसक कामाधीर था.. उसे अपनी और खींचते हुए मैंने उसके स्तनों को कस के पकड़ा और उसके गले पर अपने होंठों की मुँहर लगा दी.. उसकी सिसकारी सी छूट गई और वो मुझसे लिपटने की कोशिश करने लगी।

फिर मैंने उसके होंठों को अपना निशाना बनाया और वहां भी एक सील लगा दी।
अब उसका खुद की साँसों पर कोई कण्ट्रोल नहीं रह गया था.. मैंने उसके मम्मों में अपना सिर घुसा दिया और चटकनी बटनों को चटकाते हुए उसके ब्लाउज को पल भर में हटा दिया।मैं उसके गले पर चुम्बन करता रहा और अपने एक हाथ को नीचे ले जाते हुए उसके पेटिकोट के अन्दर डाल दिया।
लेकिन अभी उसके रजस्वला अंग को नहीं छुआ था.. शनै: शनै: वो टूटने सी लगी.. और कामाग्नि में पूरी तरह डूब कर मेरे वशीभूत हो चुकी थी।

कुछ ही पलों के बाद वो सिर्फ़ पैन्टी और ब्रा में बची थी और उसके बालों से गिरता पानी.. उसको और ज़्यादा कामुक बना रहा था।
वो भी मेरे करीब आई और मुझे निर्वस्त्र करने लगी।

हम दोनों इस वक़्त सिर्फ़ अंतः:वस्त्रों में खड़े थे.. दोनों ही मानव जीवन के सबसे हसीन काम को पूरा करने के लिए.. मदन-मिलन के लिए तैयार थे..

मैं उसके गले पर चुम्बन करता रहा और अपने एक हाथ को नीचे ले जाते हुए उसके पेटिकोट के अन्दर डाल दिया।
लेकिन अभी उसके रजस्वला अंग को नहीं छुआ था.. शनै: शनै: वो टूटने सी लगी.. और कामाग्नि में पूरी तरह डूब कर मेरे वशीभूत हो चुकी थी।

कुछ ही पलों के बाद वो सिर्फ़ पैन्टी और ब्रा में बची थी और उसके बालों से गिरता पानी.. उसको और ज़्यादा कामुक बना रहा था।
वो भी मेरे करीब आई और मुझे निर्वस्त्र करने लगी

हम दोनों इस वक़्त सिर्फ़ अंतः:वस्त्रों में खड़े थे.. दोनों ही मानव जीवन के सबसे हसीन काम को पूरा करने के लिए.. मदन-मिलन के लिए तैयार थे..

मेरा मन तो उस पर टूटने का कर रहा था.. लेकिन माहौल की रंगीनी को समझते हुए मैंने सब्र करने का फैसला किया.. उसके कमरे में हलकी-हलकी सी रौशनी थी जो इस माहौल को और भी उत्तेजक बना रही थी।

वहाँ की हर एक चीज़ बड़ी ही लालसा-पूर्ण प्रतीत हो रही थी.. सुर्ख लाल गुलाब का एक पूरा गुच्छा टेबल पर रखा था.. तो परदे भी कुछ खजुराहो के मैथुनरत नायक-नायिकाओं के जैसे छाप के थे।

उसके कंधे पर बालों से पानी गिर रहा था.. मैंने अपने पूरे होंठों को खोल कर उसके कंधे पर हौले से काट लिया.. वो सिहर कर रह गई..
मैंने उसके शेष वस्त्रों को भी उसके जिस्म से विदाई दे दी। अब वो खुद एक नग्न अजंता की मूरत सी मेरे सामने खड़ी थी।
मेरी उंगलियां उसकी कमर से लेकर स्तनों तक लगातार चल रही थीं।

वो पूरी तरह से कामातुर हो चुकी थी.. फिर उसने भी एक-एक करके मेरे भी सभी कपड़े निकाल दिए।
हम दोनों इस वक्त पूर्ण प्राकर्तिक सौंदर्य यानि की नग्न अवस्था में एक-दूसरे को देख रहे थे। उसकी आँखें आधी ही खुली थीं.. क्यूंकि वो मस्त हो चुकी थी..

मैंने अपनी ऊँगली उसके रस से भीगे होंठों पर घुमाई तो उसने लपक कर उसको मुँह में ले लिया और चूसने लगी.. धीरे से उसने ऊँगली को काट भी लिया..

मुझे लगा कि साली यहाँ पर रोज़ यही करती होगी.. लेकिन अपना क्या.. मैंने तो सीखा ही यही था कि नंगी चूत और सांप जहाँ दिखे.. तुरंत मार देना चाहिए।

उस पूर्ण यौवना को मैंने अपनी गोद में उठाया और पास पड़े सोफे पर पटक दिया और उसके ऊपर लेट गया। मेरी जीभ उसके मुँह के अन्दर थी और वो उसको बेहद कामुकता से चूसने लगी। मेरा लंड उसकी चूत पर ही रखा हुआ था.. दोनों को एक गरम एहसास होने लगा था।

उसके बदन से खेलता-खेलता मैं 69 में पलट गया और उसकी चूत को चाटने लगा.. मेरे बिना कुछ कहे ही उसने मेरा लंड अपने मुँह में जड़ तक ले लिया.. मेरी तो सिसकारी ही छूट गई थी।
हम दोनों एक-दूसरे के मदन अंगों को चूस और चाट रहे थे।

थोड़ी ही देर में.. दोनों एक साथ झड़ गए.. उसने मेरे पूरे वीर्य को पी लिया।
लेकिन अभी हमारी हवस का अंत नहीं हुआ था.. चूसने की वजह से उसके होंठ और भी ज्यादा गुलाबी हो गए थे।
मैंने बिना मौका गंवाए उसके होंठों को मुँह में भर लिया और चूसने लगा।

हमारे बीच में एक संवाद-हीनता थी.. बस हम दोनों उन पलों को एन्जॉय कर रहे थे।

मैंने अपनी एक ऊँगली उसकी चूत में डाल दी थी.. जिससे वो मचल उठी और मुझे कस कर पकड़ लिया। मेरा लंड भी अब दुबारा अपनी जवानी पर आ रहा था।
फिर मैंने उसकी चूत में एक और ऊँगली घुसेड़ दी और उसके होंठों को चबाता रहा.. उसकी सिसकारी निकल नहीं पा रही थी.. वो पूरी तरह बेचैन थी..

उसकी मादक सीत्कारें मेरे जोश को और अधिक बढ़ा रही थीं। उसकी जीभ.. मेरे होंठों में दबी थी और मैं पूरी ढीठता से उसकी जीभ को अपने होंठों से चबा रहा था।

तभी उसने अपने मम्मों को मसलना शुरू कर दिया और मेरा ध्यान उसके मस्त मम्मों को चूसने का हुआ। शायद वो मुझे यही इंगित करना चाह रही थी कि मेरे इन मदनमोदकों को भी अपने अधरों से निहाल कर दो..

सच में उसके गोल स्तन.. जिन पर छोटे मुनक्का के दाने के बराबर उसके चूचुक एकदम कड़क होकर मुझे चचोरने के लिए आमंत्रित कर रहे थे।
मैंने अपने होंठों को उसके मदन-मोदकों की परिक्रमा में लगा दिया और जीभ से उसके उरोजों के बीच की संवेदनशील छाती पर फेरना आरम्भ कर दिया।

अनामिका एकदम से सिहर उठी और उसने मेरे सर को पकड़ कर अपने चूचुकों को चूसने के लिए लगा दिया। अब मेरे मुँह में उसके खजूर के फल के आकार के लम्बे चूचुक आ चुके थे.. मैं पूरी मस्ती से उनका मर्दन कर रहा था।

इधर मेरे मुँह में उसके चूचुक थे और उधर मेरा मूसल लण्ड.. पूर्ण रूप से तन कर उसकी चूत के दरवाजे पर अठखेलियाँ कर रहा था।

उससे भी अब रहा नहीं जा रहा था उसने अपना एक हाथ नीचे ले जाकर मेरे लौड़े पर लगाया और अगले ही पल मेरा लवड़ा उसकी चूत में पेवस्त होता चला गया।
ज्यों ही मेरा लवड़ा उसकी मदन-गुफा में घुसा उसकी एक मस्त ‘आह्ह..’ निकल गई।
मैंने भी ऊपर से जोर लगाया और उसने अपनी टांगें फैला दीं.. मेरा लण्ड उसकी चूत की जड़ तक पहुँच गया। मैंने अपना चेहरा उठा कर उसकी आँखों में देखा..


वो किसी तृप्त बिल्ली जो मलाई चाट चुकी हो.. के जैसी अपनी आँखें बंद करके पड़ी थी और मेरे लण्ड को अपनी चूत में पूरा घुसा हुआ महसूस कर रही थी।

मैंने मुस्कुरा कर उसके माथे पर एक चुम्बन लिया और फिर उसकी चूत पर अपने लण्ड के प्रहारों को करना आरम्भ कर दिया।
आरम्भ में वो कुछ सिसयाई पर जल्द ही उसके चूतड़ों ने भी मेरे लौड़े की धुन पर नाचना शुरू कर दिया।

मैं अपनी कमर ऊंची उठाता.. वो भी अपनी कमर को नीचे कर लेती और ज्यों ही मैं अपना भरपूर प्रहार उसकी चूत पर करता.. वो भी मेरे लण्ड को लीलने के लिए अपने चूतड़ों को मेरी तरफ ऊपर को उठा देती।

इस सुर-ताल से हम दोनों का पूरा जिस्म पसीने से तरबतर हो गया था.. पर चूंकि एक बार मैं झड़ चुका था.. इसलिए मेरे स्खलन का फिलहाल कोई अहसास मुझे नहीं था और मैं पूरे वेग से उसकी चूत को रौंदने में लगा था।

अचानक अनामिका अकड़ने लगी और उसने एक तेज ‘आह्ह.. कम ऑन.. फ़ास्ट आई एम् कमिंग.. आह्ह.. ऊह्ह..’ सीत्कार की.. और उसने मेरी पीठ पर अपने नाख़ून गड़ा कर मुझे इस बात का संकेत दे दिया कि वो तृप्त हो चुकी थी।

उसके रस से चूत में मेरे लौड़े के प्रहारों से अब ‘फच.. फच..’ की मधुर ध्वनि गूँज रही थी।

कुछ ही पलों में मैं भी उसके ऊपर ढेर होता चला गया और मैं निचेष्ट हो कर एकदम से बेसुध हो गया..

मुझे सिर्फ इतना याद रहा कि उसने मेरे बालों में दुलार भरे अपने हाथ फिराए.. और मैं एक गहरी निंद्रा के आगोश में खो गया..
न जाने कितनी ही देर तक मैं सोता रहा.. मुझे कोई होश नहीं था..

फिर मुझे ऐसा लगा कि मेरे ऊपर तेज रोशनी और गरमी के कारण कुछ जलन सी हो रही है।
मैंने अपनी आँखें खोलीं.. सुबह हो चुकी थी.. पहले तो मुझे कुछ भी समझ में न आया.. तभी मोबाइल के बजने की आवाज आई.. तो मैं उठा..

मैं हतप्रभ था.. निर्वस्त्र था.. और एक खुली छत पर पड़ा था।

मेरा ध्यान मोबाइल कि घंटी की तरफ गया.. मैंने खुद को उठाने की चेष्टा की तो अपार दर्द के कारण गिर पड़ा।

फिर किसी तरह मैंने उठ कर अपने आप को संभाला तो देखा मेरा लण्ड खून से छिला हुआ था और मैं जगह से नाखून के निशानों से जख्मी था। एक बार के लिए मैं बहुत डर गया था तभी मेरा मोबाइल फिर बज उठा।

मैंने अपनी पैन्ट की जेब से मोबाइल को निकाला.. देखा स्क्रीन पर मेरे भैया का नम्बर था.. मैंने फोन उठाया और उधर से आवाज आई- किधर हो तुम कल रात से घर नहीं आए.. किधर रह गए.. तुम्हारा फोन कितनी बार लगाया पहले तो लग ही नहीं रहा था और अब जाकर लगा।

एक साथ इतने सवाल.. मेरा माथा घूम गया.. तभी मैंने कहा- मैं अभी आ रहा हूँ सब बताता हूँ। मैंने इतना कह कर फोन काट दिया।

मैं किसी तरह हिम्मत जुटा कर उठा.. देखा तो पाया कि यह एक अर्धनिर्मित बिल्डिंग की छत थी।

मैंने किसी तरह अपने कपड़े पहने और नीचे आया तो देखा.. इस निर्जन इलाके में मेरी बाइक सही-सलामत खड़ी थी.. मैंने लंगड़ाते हुए बाइक को स्टार्ट की और बैठ कर जैसे ही बाइक घुमाई.. एक तेज आवाज से वही रात वाली बाइक मेरे बगल से निकली और उस पर बैठे हुए व्यक्ति ने एक जोर का अट्टाहस किया।

मेरी गाण्ड फट गई.. मैं समझ गया कि रात को मैं किसी चुड़ैल को चोदता रहा.. मैं एकदम से डर कर भागा.. घर पहुँचा तो सबने मुझे घेर लिया।
मैं चुप था.. मेरी चोटों को देख कर भैया ने पूछा- क्या हुआ..? कोई दुर्घटना हो गई थी क्या..?
मुझे जैसे उत्तर सूझ गया मैं धीरे से कहा- हाँ..।

मैं उधर पड़े हुए एक दीवान पर सीधे गिर गया और घर वालों ने मेरी तीमारदारी आरम्भ कर दी।
मुझे सिर्फ उसका एक ही वाक्य याद आ रहा था ‘पर्सनल जरूरत.. हा हा हा..’

मित्रों यह मेरी सत्य घटना है.. मैं अपना नाम नहीं बताना चाहता हूँ। मुझे आपके कमेंट्स का भी कोई इन्तजार नहीं है हालांकि मेरे मन में था सो मैंने आप सभी को बता दिया है.. कृपया चुदास के चलते सुनसान रास्तों पर महिलाओं और युवतियों से खुद को बचाएं.. वे चुड़ैल हो सकती हैं।



2 COMMENTS