चाची की चूत को चोदा -2

0
49348

चाची मुझसे चुदवा कर बहुत खुश थी। उस दिन के बाद से हम दोनों हर रोज चुदाई करने लगे। स्कूल से आने के बाद मेरी नजर चाची के दरवाजे पर लगी रहती। जैसे ही चाचा खाना खा कर अपने काम पर जाता, मैं पहुँच जाता अपनी चाची जान की चूत का मज़ा लेने।

सब मज़े में चल रहा था। एक दिन जब मैं चाची के पास गया तो पता चला कि चाची गर्भवती हो गई है। मैं चाची को चोदना चाहता था पर चाची बोली- डॉक्टर ने कुछ दिन चुदाई करने से मना किया है।

मेरा लण्ड बहुत फड़क रहा था तो चाची ने कुछ देर अपने हाथ से हिलाया और फिर मुँह में लेकर चूस-चूस कर मेरे लण्ड से पानी निकाल दिया। मज़ा आया पर उतना नहीं जितना चूत को चोदने में आता है।

दो तीन दिन तो ऐसे ही निकाल दिए पर फिर मेरा लण्ड चूत के लिए मचलने लगा। मैं जब भी बात करता तो चाची मुझे मना कर देती।

तीसरे दिन मैंने चाची को कहा- चाची अब यह चूत में घुसे बिना नहीं मानेगा। बहुत तंग करता है। या तो तुम इसको अपनी चूत में डालो या फिर इसके लिए चूत का इंतजाम करो।

‘मैं भला किसकी चूत दिलवाऊँ तुम्हें…?’ चाची बोली।
‘मुझे नहीं पता ! या तो तुम दो या किसी की भी चुदवाओ..’
चाची भी बेचैन हो गई, फिर बोली- तू देख किसकी चोदना चाहता है, फिर मैं पटाने की कोशिश करुँगी। मैंने पूरे मोहल्ले की लड़कियों और औरतों पर नजर घुमाई तो मुझे दो लड़कियाँ और एक औरत पसंद आई। चाची ने तीनों की ही दिलवा पाने में असमर्थता जता दी।
मैं फिर बेचैन हो गया। गुस्से में निकल गया कि अगर किसी की नहीं दिलवा सकती तो उस साली चम्पा की दिलवा दो, मेरा बदला भी पूरा हो जाएगा और चूत भी मिल जायेगी।

चाची हँस पड़ी मेरी बेचैनी देख कर।
‘ह्म्म्म… तो तू चम्पा को चोदेगा…?’
‘हाँ चोदूँगा… साली से उस दिन की मार का बदला भी तो लेना है…’
‘वैसे वो पट तो सकती है पर…’
‘पर क्या…’
‘पर अगर नहीं पटी तो पूरे मोहल्ले में जलूस निकाल देगी तेरा और मेरा… सोच ले?’
‘मेरी जान, तुम कोशिश तो करो… जो होगा देखा जाएगा।’

चाची ने मुझे वादा किया कि आज शाम को ही वो एक बार कोशिश करके देखेगी। दो तीन दिन और निकल गए। मेरी बेचैनी अब बढ़ती ही जा रही थी।

उस दिन बुधवार था। मैं स्कूल से वापिस आया तो चाची अपने घर के दरवाजे पर ही खड़ी थी। मैं चाची के घर में घुसा और चाची को पकड़ कर चाची के होंठों पर होंठ रख दिए। कुछ देर चूमने के बाद चाची बोली- जाओ और कपड़े बदल कर जल्दी आना।
चाची के चेहरे पर एक अलग सी मुस्कान थी।

मैं घर गया और जल्दी से नहाया और कपड़े बदल कर चाची के घर जाने के लिए निकला तो मम्मी ने खाना खाने के लिए रोक लिया।

खाने की भूख नहीं थी मुझे…पर मम्मी ने जबरदस्ती दो रोटी खिला दी।
‘मैं खेलने जा रहा हूँ !’ बोल कर घर से निकल गया।

चाची के घर गया तो देखा कि कोई आया हुआ है। उसकी पीठ थी मेरी तरफ और वो सोफे पर बैठी चाची से बाते कर रही थी।
यह चम्पा तो नहीं हो सकती… यही सोचते हुए मैं कमरे में गया तो सच में ही यह चम्पा नहीं थी।

तभी चाची ने मेरा उससे परिचय करवाया। वो चाची के भाई की बीवी यानि चाची की भाभी थी। वो उम्र में चाची के जितनी ही थी। बदन भी हरा भरा था पर चेहरे पर पिम्पल्स के निशान उसकी खूबसूरती को थोड़ा कम कर रहे थे।

तभी चाची उठ कर रसोई में गई और एक मिनट के बाद मुझे भी रसोई में बुलाया।
‘इसको चोदेगा..?’ चाची ने रसोई में घुसते ही पूछा।
‘चोदेगा’ शब्द सुनते ही लण्ड में हरकत हुई पर इतनी सुन्दर नहीं थी यह, मैंने मना कर दिया।
चाची बोली- फिर तू एक घंटे बाद आना।

मैं उठ कर चला गया। गर्मी का मौसम था और गली बिल्कुल सुनसान पड़ी थी। मैंने सोचा की क्यों ना चम्पा पर खुद ही कोशिश करके देखा जाए। बस यही सोचते सोचते मैं चम्पा के घर के सामने पहुँच गया।

चम्पा अपने घर की खिड़की में बैठी थी। मैंने उसको नमस्ते की और बातचीत आगे बढ़ाने की कोशिश करने लगा।
‘इतनी गर्मी में कहा घूम रहा है रे…’ चम्पा ने पूछा।
‘बस तुम्हारे ही पास आ रहा था आंटी..’
‘क्यों? मेरे पास क्या काम है तुझे..?’
‘कुछ खास नहीं बस आपसे माफ़ी मांगनी थी।’
‘किस बात की माफ़ी..?’
‘वो उस दिन आपको साइकिल से टक्कर मार दी थी उसके लिए।’
‘इतने दिन बाद माफ़ी की याद आई है तुझे…?’ वो हँस पड़ी।
‘क्या मैं अंदर आ सकता हूँ तुम्हारे पास?’
‘आ जाओ !’ चम्पा ने थोड़ा मुस्कुराते हुए कहा।

मैं पहली बार चम्पा के घर के अंदर गया था। वो भी उठ कर अपने ड्राइंगरूम में आ गई। मुझे सोफे पर बैठा कर वो अंदर से मेरे लिए पानी लेकर आई।

पानी देकर वो मेरे पास ही सोफे पर बैठ गई। कुछ देर इधर उधर की बात की और फिर वो मेरे और मेरे परिवार के बारे में बात करने लगी।

कुछ ही देर में मैं चम्पा से अच्छी तरह खुल गया और बातों बातों में ही पता लगा कि चम्पा दिल की एक अच्छी औरत है। और फिर जैसे हम दोनों दोस्त बन गए।
आज पहली बार था तो मैं ज्यादा कुछ नहीं कर सकता था। थोड़ा सब्र रखना जरूरी था।

ऐसे ही करीब एक सप्ताह तक मैं हर रोज उसके घर जाने लगा। स्कूल से आकर चाची के पास जाता। चाची के साथ चुम्माचाटी करने के बाद सीधा चम्पा के घर चला जाता। फिर देर तक चम्पा से बातें करता।

फिर एक दिन मैंने चम्पा से बच्चा ना होने का कारण पूछा तो मेरी बात सुन कर वो सिसक पड़ी, मैंने उसके कंधे पर हाथ रखा और प्यार से उसके आँसू पौंछे।
तब उसने जो बताया तो उसके आँसुओं का कारण पता लगा।

चम्पा ने बताया कि वो एक गरीब परिवार से है और चम्पा की माँ ने चम्पा की शादी पैसे के बदले में चम्पा के पति केशव लाल से कर दी थी। केशव लाल एक अय्याश किस्म का इंसान था। शादी के बाद कुछ दिन तो उसने चम्पा को प्यार किया पर जल्दी ही अपने रंग में आ गया और फिर चम्पा को छोड़ वो बाजार की रंडियों के पास जाने लगा।

चम्पा ने बताया कि जब केशव उसको चोदता ही नहीं था और जब चोदेगा ही नहीं तो बच्चा कहाँ से होगा।
फिर शादी के कुछ साल बाद केशव का एक्सीडेंट हो गया और उसकी मर्दाना शक्ति भी जाती रही। अब केशव एक नपुंसक की जिंदगी जी रहा है।

‘आंटी सच बताना… तुम्हारा दिल नहीं करता था चुदाई के लिए..?’

‘करता था पर मैं क्या कर सकती थी… केशव मुझ पर पूरी नजर रखता था और मुझे कहीं भी आने जाने नहीं देता था।’
‘अब दिल करता है…?’
‘अरे नहीं रे…अब तो केशव के पल्ले कुछ है ही नहीं…अब क्या दिल करेगा… और अगर दिल करेगा भी तो क्या फायदा…!’

चम्पा मेरे बिल्कुल नजदीक बैठी थी तो मैंने चम्पा की आँखों में झांकते हुए कहा- आंटी, अरमानों का गला ऐसे नहीं घोटना चाहिए, नहीं तो जिंदगी में बहुत दुःख होता है।
चम्पा अचरज से मेरी आँखों में देखने लगी और समझने की कोशिश करने लगी कि आखिर मैं कह क्या रहा हूँ।
‘आंटी मैं तुम्हारा अरमान पूरा कर सकता हूँ।’ मैंने थोड़ा डरते हुए कहा।

चम्पा का मुँह खुला का खुला रह गया। मैंने भी थोड़ी हिम्मत करते हुए आगे बढ़ कर अपने होंठ चम्पा के होंठों से मिला दिए। चम्पा ने मुझे एकदम से दूर कर दिया। एक बार तो मैं घबराया कि अब कुछ भी हो सकता है पर चम्पा ने कुछ नहीं कहा बस वो दूसरी तरफ मुँह करके रोने लगी।

मैंने फिर से हिम्मत करके उसके कंधे पर अपना हाथ रखा तो वो बिना मेरी तरफ मुड़े बोली- राज यह नहीं हो सकता… अगर अब मुझे गर्भ ठहर भी गया तो केशव तो क्या पूरी दुनिया मुझे गलत निगाह से देखेगी। क्यूंकि केशव कुछ कर नहीं सकता तो फिर…
वो फिर से रो पड़ी।

मैंने उसके आँसू पोंछे और बोला- आंटी, बेशक बच्चा अभी ना भी हो पर शरीर की जरूरत तो है ना… वो तो पूरी होनी ही चाहिए।
‘नहीं राज… फिर तू तो है भी मेरे बेटे जैसा !’
‘पर अब तो हम दोस्त है ना… तो क्यों दुखी होती हो… आओ ना प्लीज मैं सच में तुम्हें बहुत प्यार करता हूँ आंटी…’ मैंने चम्पा को अपनी बाहों में भरते हुए कहा।

चम्पा ने थोड़ा सा विरोध किया पर मैंने एक बार फिर से अपने होंठ चम्पा के होंठों पर रख दिए। कुछ देर के विरोध के बाद चम्पा शांत हो गई।

अब मैं मज़े से उसके होंठ चूस रहा था। मेरा हाथ भी अब उसके ब्लाउज के ऊपर से ही उसकी चूचियों का नाप ले रहा था। चम्पा की चूचियाँ ज्यादा बड़ी तो नहीं थी पर थी मस्त। होंठ चूसते चूसते मैंने उसके ब्लाउज के सारे हुक खोल कर चूचियों को नंगा कर दिया। गर्मी के कारण चम्पा ने ब्रा नहीं पहनी थी तब।

ब्लाउज खुलते ही दो आम सी चूचियाँ मेरे सामने थी। मैंने देर नहीं की और होंठ छोड़ कर अपने होंठों में चम्पा की चूची का चुचूक ले लिया और चूसने लगा।
चम्पा को यह मज़ा बहुत दिन के बाद मिला था तो चूची की चुसाई शुरू होते ही वो सीत्कार उठी और उसके मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगी।
वो मेरे मुँह में अपनी चूची ऐसे देने लगी जैसे एक छोटे बच्चे को उसकी माँ दूध पिलाती है।

मैं पूरी चूची को मुँह में भर भर कर चूस रहा था। वो मस्त होती जा रही थी। कुछ देर चूची चूसने के बाद मैं उठा और उसको उठाकर बेडरूम में ले गया।

वहाँ जाते ही मैंने उसकी साड़ी और पेटीकोट भी उतार दिया। अब वो बिल्कुल नंगी मेरे सामने थी। उसकी चूत पर बहुत लम्बे लम्बे बाल थे। पूरी चूत बालों ने ढक रखी थी।

मैंने चम्पा को बेड पर लेटाया और उसकी टाँगें खोल कर उसकी चूत के बालों को अगल बगल किया तो उसकी लाल लाल चूत नजर आई।

चूत देख कर ही लग रहा था कि लण्ड नहीं मिला है सही से इस चूत को।
मैंने चूत को उंगली से सहलाया तो पाया कि चूत पानी छोड़ चुकी थी और चूत रस से भरी हुई थी।

मेरा लण्ड भी अब चूत के दर्शन को बेताब हो उठा था। पर रस से भरी चूत को देख कर मन ललचा गया और मैंने अपनी जीभ रख दी, चम्पा की चूत पर और चूत का स्वादिष्ट रस चाटने लगा।

चम्पा का हाथ भी अब मेरे पजामे में मेरे लण्ड को टटोल रहा था।मैंने लण्ड निकाल कर उसके हाथ में दिया तो वो मेरा लम्बा लण्ड देख कर खुश हो गई- राज अब देर ना कर… डाल दे अपना लण्ड मेरी चूत में और फाड़ डाल इसको… बहुत प्यासी है तेरी आंटी की चूत… बहुत तरसी है ये लण्ड के लिए… आह्हह्ह… डाल दे जल्दी से और मुझे माँ बना दे अपने बच्चे की…

चम्पा मस्ती में बड़बड़ा रही थी। मैंने लण्ड उसके मुँह के सामने किया तो उसने झट से लण्ड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी। लण्ड अपने पूरे शबाब पर था। कुछ देर चूसने के बाद वो लण्ड को अपनी चूत में लेने को तड़प उठी।

मैं भी अब चम्पा की चूत की गर्मी को अपने लण्ड पर महसूस करना चाहता था। मैं चम्पा की टांगों के बीच में आया और अपने लण्ड का सुपारा चम्पा की चूत पर रगड़ने लगा। चम्पा लण्ड को अंदर लेने को मचल रही थी पर मैं उसको तड़पा रहा था।

चूत रस से सराबोर होकर चिकनी हो गई थी। मैंने लण्ड का हल्का सा दबाव दिया पर लण्ड अंदर नहीं घुसा। काफ़ी कसी चूत थी चम्पा की।

मैंने लण्ड दुबारा टिकाया और इस बार पूरे जोश के साथ एक जोरदार धक्का लगा दिया चम्पा की चूत पर। चिकनी चूत में लण्ड घुसता चला गया। और साथ ही चम्पा की चीख निकल गई।

मैं भूल ही गया था कि चम्पा की चूत लण्ड का मज़ा भूल चुकी है। मुझे एहसास नहीं था तब कि चूत इतनी तंग भी हो सकती है।

मैंने लण्ड बाहर निकाला और थोड़ा सा थूक चम्पा की चूत पर लगाया और दुबारा से लण्ड उसकी चूत पर रखा और फिर से एक धक्का लगा दिया। थूक की चिकनाई से लण्ड थोड़ा और अंदर तक गया और चम्पा एक बार फिर दर्द से कसमसाई।


अब मैं धीरे धीरे लण्ड को अंदर-बाहर कर रहा था और कुछ ही देर में मैंने पूरा लण्ड चम्पा की चूत में उतार दिया। चम्पा क चेहरे पर खुशी और दर्द का मिश्रण नजर आ रहा था। उसकी आँखों में आँसू थे। यह समझना मुश्किल था कि ये आँसू दर्द के थे या चुदाई की खुशी के थे।

लण्ड पूरा अंदर जाते ही मैंने धक्को की गति बढ़ा दी। चम्पा की चूत भी अब मेरे लण्ड के अनुसार फ़ैल गई थी। पानी छोड़ने से चिकनी भी हो गई थी। लण्ड अब पूरी मस्ती के साथ अंदर-बाहर हो रहा था।

चम्पा भी अब आह्हह ओह्ह्हह उईई अह्हह आह्हह ओह्ह कर रही थी। उसका एक हाथ मेरे कूल्हों पर था जो हर धक्के के साथ नीचे दबा रहा था ताकि लण्ड जड़ तक चूत में घुस जाए हर धक्के के साथ। दूसरे हाथ से चम्पा अपनी चूची को मसल रही थी। मस्ती के कारण चम्पा की आँखें बंद थी और वो चुदाई का भरपूर मज़ा ले रही थी।

चम्पा की कसी चूत को चोद कर सच में मैं भी जन्नत की सैर कर रहा था।

काफी देर की चुदाई के बाद चम्पा जब दूसरी बार झड़ी तो उसने अपनी चूत के रस से सारा कुछ सराबोर कर दिया। अब हर धक्के के साथ फच्च फच्च की आवाज कमरे में गूंजने लगी थी। चम्पा बहुत दिन के बाद चुदवा रही थी तो झड़ने के बाद वो बिल्कुल निढाल सी हो गई। अब उसकी चूत भी दर्द करने लगी थी।

‘राज…अब बस कर ! चूत दुखने लगी है रे…’
‘पर मेरी जान… मेरा तो अभी नहीं हुआ है..’
‘ला… निकाल कर मेरे मुँह में दे… तुझे चुसाई का मज़ा देती हूँ।’

दो तीन धक्के लगाने के बाद मैंने लण्ड निकाल कर चम्पा के मुँह में दे दिया। चम्पा मस्त होकर मेरा लण्ड चूस रही थी। करीब पाँच मिनट चूसने के बाद मेरा लण्ड अब अपना रस बिखेरने को मचल उठा तो मैंने चम्पा को रुकने को कहा। पर चम्पा नहीं रुकी और मेरे लण्ड ने उसके मुँह में ही पिचकारी मार दी।
वो सारा माल गटक गई। वो जीभ घुमा घुमा कर मेरा लण्ड चाट रही थी और मैं भी मस्ती के मारे उसकी चूचियों को पकड़ पकड़ कर मसल रहा था। चम्पा ने पूरा लण्ड अपने मुँह में निचोड़ लिया।
उस दिन मैंने और चम्पा ने एक बार और चुदाई का मज़ा लिया। फिर मैं अपने घर चला गया।

शाम को मैंने चाची को जाकर चम्पा की चुदाई का बताया तो वो भी बहुत खुश हुई और बोली- चम्पा की चूत के चक्कर में मेरी चूत मत भूल जाना मेरे राजा।

मैं हँस पड़ा और मुझे वो दिन याद आ गया जिसे मैं पहले मनहूस समझ रहा था पर उसी दिन की बदौलत आज मेरे मज़े ही मज़े थे। न चम्पा से टक्कर होती ना स्कूल में मैडम से कहा-सुनी होती और फिर ना ही चाची की चूत मिलती।
कुल मिला कर मेरी स्कूल की सजा पूरे मज़े में बदल चुकी थी। आज मैं दो दो चूतों का स्वामी था।

आप लोग भी कभी निराशा को पास मत आने देना… क्या पता कब आपका कोई मनहूस दिन आपके जीवन में खुशियों की बारिश कर दे ..