Bhabhi aur bua ke sath sex – hindi nude stories

0
9316

मेरा नाम नजमा है। मैं बिकानेर में रहती हूँ। मेरे अम्मी, अब्बू और चार भाई हैं। भाइयों के निकाह हो चुके हैं। मेरा एक अट्ठारह, एक ग्यारह साल का भतीजा है, दो 5-6 साल के हैं। मेरा भी निकाह हो चुका था लेकिन तलाक होने की कगार पर है, मेरे शौहर मुझे लेने आए लेकिन अब्बू ने मुझे नहीं भेजा। अब मेरे शौहर मुझे नहीं ले जाना चाहते वो कहते हैं कि वे मुझे तलाक दे देंगे। अब मेरे अब्बू ने उन पर दहेज का झूठा केस किया है, मैं उनसे बहुत प्यार करती हूँ। वो भी मुझे बहुत प्यार करते उन्होंने मेरे लिए दुबई से काम छोड़ कर आ गये लेकिन मैं उनके प्यार को समझ ना सकी। अब घर में कोई मेरे बारे में नहीं सोचता सब अपना काम निकालने में लगे रहते हैं। शादी से पहले मेरे कुछ आशिक थे, मेरे भाईजान को भी पता था, मैं उनसे मिलने भी जाती थी लेकिन भाईजान कुछ नहीं कहते थे क्योंकि उनकी भी गर्लफ़्रेन्ड थी, वो उनसे मिलने जाते ! हमें किसी को किसी से कोई मतलब नहीं था।

लेकिन मेरे शौहर के प्यार में मैं सबको भूल चुकी थी लेकिन अब मैं बिल्कुल तन्हा हूँ। मेरे अब्बू, अम्मी, भाईजान को मेरी कोई फ़िक्र ही नहीं हैं। भाभी औरत होने के नाते मुझे कुछ समझती ! मैं रातों को बिस्तर पर रोती तो भाभी आती और समझाती !

मैंने भाभी से कहा- मुझे उनकी बहुत याद आती है। रातें अकेले काटना मुश्किल हो गया है।भाभी ने भाईजान से मेरे बारे में बात की, उन्होंने भाभी की बात मान ली। नये साल में दो दिन बाकी थे, भाभी ने मुझे मार्केट चलने को कहा।

हम मार्केट गये। वहाँ भाभी ने कुछ कपड़े लिए। हम होटल में चाय पी रहे थे तो मैं उदास बैठी थी, भाभी ने कहा- दो दिन बाद पार्टी रखी है, तुम्हें कुछ लेना हैं? मेरे मना करने पर भी भाभी ने कुछ पहनने के लिए ले लिया, मुझे दिखाया भी नहीं, कहा- पार्टी में पहनना अब शाम को !

पार्टी में जाने से पहले भाभी ने मुझे और अपने बड़े बेटे आदिल को बुलवाया, एक पैकेट मुझे दिया, एक पैकेट अपने बेटे आदिल को दिया, मुझे कहा- ये कपड़े पार्टी में पहनने के लिए हैं।

और आदिल से कहा- यह पैकेट पार्टी के बाद तुम अपनी फ़ूफ़ी को अपनी तरफ से दे देना !

भाभी ने उसे पूरा समझा दिया था। भाईजान-भाभी, भतीजा आपस में मिल कर कुछ कर रहे थे।

भाभी ने मुझे तैयार होने को कहा, मैं तैयार हो रही थी, आदिल मेरे कमरे में आ गया, मैं पेन्टी ब्रा में थी, वो मुझे देखने लगा। मैं बाथरूम में चली गई मैंने कपड़े बदले और तैयार हो गई।

हम सब पार्टी में पहुँचे, सबके चेहरों पर मास्क लगे थे। सभी ने हमारा स्वागत किया। सभी खाना खा रहे थे, भाभी ने हमें नाश्ता करवाया और जूस पिलाया।

12 बजने वाले थे, भाभी मेरे कपड़े बदलवाने के लिए कमरे में ले गई, मुझे तौलिया दिया और कपड़े बाहर छोड़ने को कहा।

मैं कपड़े उतार रही थी, मेरे हाथ में सलवार का इजारबन्द था, वो कस गया था, नहीं खुल रहा था।

कि तभी आदिल वहाँ आ गया, भाभी ने उसे पास बुलाया और सलवार खोलने को कहा। मेरे मना करने पर भाभी ने कहा- 12 बजने वाले हैं। खोलने दो ! तुम अपना कमीज उतारो !

मेरे न मानने पर भाभी ने मेरे कमीज उतार दी तभी मेरी सलवार का नाड़ा आदिल ने तोड़ दिया, देखते ही देखते मैं नंगी हो गई। आदिल मेरे नंगे बदन को देखने लगा। भाभी ने मुझे बाथरूम में भेज दिया और जल्दी तैयार होने को कहा।

मैंने पैकेट को खोला, उसमें जाली का सूट था, मैंने पहनने से मना कर दिया।

भाभी ने कहा- तुम्हारे भतीजे को भेजूँ पहनाने के लिए या पहन रही हो?

मैं बिल्कुल नंगी थी और आदिल ने मुझे देखा भी था, मैंने कहा- मैं तैयार होती हूँ।

मेरा शरीर उस सूट में साफ नजर आ रहा था, मुझे शर्म आ रही थी लेकिन भाभी दरवाजा बजाने लगी। जब मैं बाथरूम से बाहर आई तो भाभी मुझे बाहर ले गई।

12 बजने ही वाले थे, सब साथ-साथ नाचने लगे, भाईजान भाभी आदिल सभी मुझे खुश देख कर खुश थे।

12 बज चुके थे, सभी शोर मचाने लगे। थोड़ी देर में लोग जाने लगे और अब वहाँ पर कुल तीन औरतें थी, भाभी, मैं और मेरी सहेली जिसका मेरे भाईजान से भी याराना है और दो ही मर्द थे भाईजान और आदिल।

भाभी ने कहा- आदिल 18 साल का हो गया है पर इसने लड़की का मज़ा नहीं लिया अभी तक ! तो आज हम तीनों के नाम की पर्चियाँ डलते हैं, जिसकी परची आदिल उठाएगा, उसी पर आदिल अपना कुंवारापन न्यौछावर करेगा।

सभी लड़कियों के नाम डिब्बे में डाल दिये ! अब भाभी ने आदिल को एक पर्ची उस डिब्बे में से निकालने को कहा। आदिल ने एक पर्ची उठा ली। भाभी ने उससे पर्ची लेकर खोली तो उसमें मेरा ही नाम था।

भाईजान ने वीडियो कैमरा उठाया और भाभी ने ऐलान किया- आदिल, नजमा को बेड पर ले चलो !

उसने मुझे गोद में उठाया और चल पड़ा। सभी हमारे पीछे आ रहे थे।

मुझे बैड पर लेटाने के बाद आदिल मेरे बेड पर बैठ गया, आहिस्ता आहिस्ता वो नजदीक आने लगा, मैं पीछे खिसकने लगी।

भाईजान विडियो बना रहे थे।

आदिल ने मेरा पैर पकड़ लिया ओर सहलाते हुए मेरे ऊपर आने लगा। मैं सिसकारने लगी और छुड़ाने लगी पर वो पूरा मेरे ऊपर चढ़ गया और मुझे चूमने लगा। चुम्बन करते करते मेरे चुच्चे दबाने लगा।

अब मैं भी मस्त होने लगी थी। वह हाथ नीचे ले जाने लगा, चाहते हुए भी मैं उसे रोक ना सकी, उसने मेरी सलवार का इज़ारबन्द पकड़ कर खींच दिया और भाभी ने मेरी सलवार उतारने में अपने बेटे की मदद की।

सलवार उतरने के बाद आदिल ने हाथ मेरी पेन्टी में डाल दिया और सहलाने लगा। मुझे मजा आने लगा सहलाते सहलाते उसने अपनी अंमगुली मेरी चूत में डाल दी, मेरे मुँह से चीख निकली तो भाभी पास आई, बोली- बेटे थोड़ा आहिस्ता करो !

फ़िर आदिल ने मेरी पेन्टी निकाली ओर मेरी टांगों को फैलाया, मेरी चूत को जीभ से चाटने लगा। मुझे बहुत मजा आ रहा था मुझे प्यास लगने लगी, मैंने भाभी से पानी मंगवाया। मैं पानी पी रही थी तो आदिल ने अपने सारे कपड़े निलाक दिए।

पानी पीते पीते मेरी नज़र आदिल के लण्ड पर पड़ी तो एकदम कड़क खड़ा था।इसी बीच मेरी सहेली ने भाईजान की ज़िप खोल कर उनका लण्ड निकाल लिया और उसे चूसने लगी।पानी पीने के बाद उसने मुझे नीचे लेटाया और मेरे ऊपर 69 की अवस्था में चढ़ गया। उसने अपना लण्ड मेरे मुंह में डाला ओर आगे पीछे करने लगा, मेरी चूत को चाटने लगा।

15 मिनट बाद वो नीचे उतरा, मेरी टांगों को फैलाया और मेरी चूत के आगे अपना लण्ड लगाया और दबाया। लेकिन वो अन्दर नहीं गया उसने बहुत कोशिश की, मुझे हंसी आने लगी।

भाईजान ने भाभी को तेल देने को कहा। भाभी ने तेल मेरी चूत पर डाला और आदिल उसे अपनी उंगली से मेरी चूत में लगा रहा था, उंगली अन्दर डाल रहा था।

अब आदिल ने मेरी चूत पर अपने लण्ड को रखा और दबाया। मैं चीखने लगी उसने मेरे हाथों को अपने हाथों में पकड़ कर मेरी छाती से दूर किया और मेरे होंटों पर चुम्बन करने लगा और आहिस्ता आहिस्ता अपने लण्ड को मेरी चूत की गहराइयों में पहुँचा दिया।

मुझे दर्द हो रहा था, मैंने अपने हाथ छुड़ा कर उसे कस कर पकड़ लिया। थोड़ी देर बाद मुझे मजा आने लगा, मैं उसका साथ देने लगी।

अब भाभी ने मेरा कमीज और ब्रा उतारी और अपने बेटे आदिल को मेरे उरोज़ चूसने को कहा।

भाभी अपने बेटे का साथ देने लगी, उन्होंने मेरी टांगें पकड़ ली और चौड़ी कर दी। अब उसे चोदने में मजा आ रहा था लेकिन मुझे शर्म आ रही थी।

भाभी ने भाईजान को क्लोजप लेने को कहा, उन्होंने मेरे ऊपर से नीचे तक का क्लोजप लिया और मेरी चूत का क्लोजप लेने लगे।

भाईजान वीडियो बना रहे थे और मेरी सहेली उनके लण्ड पर पिली पड़ी थी।

थोड़ी देर बाद मेरा पानी निकलने वाला था, मैं आदिल का साथ देने लगी धक्के मारने में !

मेरा पानी निकल गया, मैंने भतीजे को देखा, वो बहुत खुश नजर आ रहा था।

वो रूक गया।

भाभी ने कहा- क्या हुआ?

लेकिन मैं अपने चूतड़ चला रही थी।

आदिल ने कहा- अम्मी, मेरा पानी निकलने वाला है।

भाभी ने कहा- रूक मत आदिल, जोर जोर के झटकों के साथ अपना सारा पानी अपनी फ़ूफ़ी की चूत में डाल दे !

उसने वैसा ही किया, वह जोर जोर के झटके देने लगा, उसका पानी निकलने ही वाला था। मैं बहुत खुश थी !

तभी एक तेज धार निकली जो मेरी बच्चेदानी में लगी। मैं आहें भरने लगी, सब समझ गये कि पानी निकल चुका हैं।

आदिल मेरे ऊपर ही लेट गया। भाभी ने अपने बेटे से हटने को कहा। मैंने भाभी को थोड़ी देर और उसे लेटे रहने देने को कहा। भाभी हंसते हुए बोली- मजा आया?मैंने भतीजे को चूमते हुए भाभी को धन्यवाद दिया।

उसके बाद आदिल ने कैमरा सम्भाला और भाईजान मेरी सहेली के साथ बिस्तर पर आ गए।फ़िर बाद में आदिल ने भी मेरी सहेली को चोदा।बाद में भाभी ने भेद खोल दिया था कि उन्होंने तीनों पर्चियाँ मेरे नाम की डाली थी !